Teacher’s Day 2021 in India: कब और क्‍यों मनाया जाता है शिक्षक दिवस ?

Dr Sarvepalli Radhakrishnan - 5 September Teachers Day
Dr Sarvepalli Radhakrishnan

Teacher’s Day 2021 in India: When and why celebrate Teacher’s Day?

गुरुर ब्रह्मा गुरुर विष्णु, गुरुर देवो महेश्वरः
गुरुर साक्षात परब्रह्म:, तस्मै श्री गुरुवे नमः

अर्थात गुरु ही सृष्टिकर्ता ब्रह्मा के समान है, गुरु ही पालनकर्ता, संरक्षक विष्णु के समान है, गुरु ही संहारकर्ता भगवान शंकर के समान है तथा गुरु ही साक्षात सर्वोच्च देवता या सर्वशक्तिमान परब्रह्म के समान है। 

Teacher’s Day 2021 : भारत भूमि में गुरु-शिष्य परंपरा आदिकाल से चली आ रही है, प्रत्‍येक व्‍यक्ति के जीवन में माता-पिता का स्थान सर्वोपरि होता है, वे ही प्रत्‍येक व्‍यक्ति के प्रथम गुरू माने जाते हैं जो हमें इस खूबसूरत दुनिया में लाते हैं और दुनिया से परिचय कराते हैं । किन्‍तु जीवन जीने का असली सलीका और मकसद हमें शिक्षक ही सिखाते हैं। शिक्षक सभी को सदमार्ग पर चलने की प्रेरणा देते हैं। भारत में प्रतिवर्ष 5 सितंबर डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्म-दिवस को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन भारत के पहले उप राष्‍ट्रपति एवं द्वितीय राष्ट्रपति रहे हैं। डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन एक महान दार्शनिक व एक आदर्श शिक्षक थे साथ ही वे शिक्षा को अत्‍यधिक महत्‍व देते थे। भारत सरकार इस दिवस के अवसर पर भारत के श्रेष्‍ठ शिक्षकों को पुरूस्‍कृत करती है।

Teacher’s Day 2021

Teacher’s Day 2021। शिक्षक दिवस 2021

Teacher’s Day 2021 : भारत में प्रतिवर्ष शिक्षक दिवस 5 सितम्‍बर को मनाया जाता है, इस वर्ष 2021 मे शिक्षक दिवस रविवार को है। शिक्षक दिवस के दिन कई विद्यालय/महाविद्यालयों में छात्र अध्‍यापन का कार्य करते हैं और अपने शिक्षकों के प्रति सम्‍मान प्रकट करते हैं साथ ही सभी छात्र मिलकर अपने शिक्षकों को विविध उपहार भेंट करते हैं।

यहां पढ़॓॑ : वर्ष 2021 में कम लागत वाले 6 लघु व्‍यवसाय जो आसानी से शुरू किये जा सकते हैं । क्‍या आप भी करनो चाहते हैं?

Why Teachers Day Celebrated (क्‍यों मनाया जाता है शिक्षक दिवस) ?

शिक्षक दिवस डॉ. सर्वपल्‍ली राधाकृष्‍णन के जन्‍मदिवस के अवसर पर उनके प्रति सम्‍मान प्रकट करने के लिए मनाया जाता है। डॉ. राधाकृष्‍णन भारत के दूसरे राष्‍ट्रपति एवं पहले उप राष्‍ट्रपति रहे हैं। वे एक महान शिक्षक थे। शिक्षक के रूप में उन्‍होंने अपने 40 वर्ष भारत के भविष्‍य को संवारने में लगा दिये। डॉ. राधाकृष्‍णन का जन्‍म 5 सितम्‍बर 1888 को तमिलनाडू के गांव तिरूतनी में हुआ था।  डॉ. राधाकृष्‍णन की बचपन से ही किताबें पढ़ने में दिलचस्‍पी रही है।  वे स्वामी विवेकानंद से अत्‍यधिक प्रभावित थे । डॉ. राधाकृष्णन का निधन 17 अप्रैल 1975  को चेन्नई में को हुआ ।

दरअसल शिक्षक दिवस मनाने के पीछे एक छोटी कहानी है, जब डॉ राधाकृष्‍णन भारत के उपराष्‍ट्रपति बने उसके बाद उनके कुछ छात्रों तथा उनके कुछ मित्रों ने उनका जन्‍मदिन मनाये जाने के लिए अपनी इच्‍छा व्‍यक्‍त की। तब डॉ राधाकृष्‍णन ने कहा कि यदि उनके जन्‍मदिवस को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है तो उन्‍हें गर्व होगा। इसी सिलसिले में उनके जन्‍मदिवस को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाने लगा।

यहां पढ़॓॑ : स्‍नेपडील से जुड़कर दें अपने व्‍यवसाय को नयी उड़ान।

यहां पढें : सभी श्रद्धालुओं की मनोकामना पूर्ण करती हैं अछरू माता

Importance of Teachers Day ( शिक्षक दिवस का महत्व)

Importance of Teachers Day : शिक्षक दिवस का महत्‍व अत्‍यधिक है, इस दिन भारत के पहले उप राष्‍ट्रपति डॉ. राधाकृष्‍णन को उनके शिक्षा के क्षेत्र में दिये गये योगदान के लिए याद किया जाता है। प्रत्‍येक छात्रों के लिए शिक्षक दिवस बहुत ही महत्‍वपूर्ण है, इस दिन प्रत्‍येक छात्र अपने शिक्षकों के प्रति सम्‍मान प्रकट करता है। साथ ही वे अपनी भावनाओं व विचारों को भी अपने शिक्षकों के समक्ष व्‍यक्‍त कर सकते हैं। इसी दिन से प्रत्येक छात्र को प्रेरणा लेना चाहिए और केवल इस दिन नहीं अपितु सदैव अपने शिक्षकों का सम्‍मान करना चाहिए। शिक्षक दिवस विश्‍व के कई देशों में अलग-अलग तिथि को मनाया जाता है। इसके अतिरिक्‍त विश्‍व शिक्षक दिवस प्रतिवर्ष 5 अक्‍टूबर को संयुक्‍त राष्‍ट्र के तत्‍वाधान में मनाया जाता है।

1 thought on “Teacher’s Day 2021 in India: कब और क्‍यों मनाया जाता है शिक्षक दिवस ?”

Leave a Comment

Open chat
1
How can we help ?
Hello 👋

Can we help you ?