Parakram Diwas, पराक्रम दिवस: 23 जनवरी, नेताजी सुभाष चंद्र बोस जन्मदिवस

Parakram diwas
Subhash chandra bose

Parakram Diwas, पराक्रम दिवस: 23 जनवरी, नेताजी सुभाष चंद्र बोस जन्मदिवस

“तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूँगा” सुभाष चंद्र बोस

Parakram diwas, पराक्रम दिवस

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के अग्रणी नेता और आजाद हिंद फौज के संस्थापक नेताजी सुभाष चंद्र बोस (Subhas Chandra Bose) की जयंती 23 जनवरी को भारत सरकार द्वारा पराक्रम दिवस के रूप में मनाने का फैसला लिया गया है।

भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय (Ministry of Culture ) द्वारा जानकारी दी गई है कि 23 जनवरी 2021 को नेतजी की 125 वीं जयन्ती केंद्र सरकार भव्य तरीके से मनाने जा रही है इसे लेकर गठित उच्च स्तरीय कमेटी की अगुआई खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे।

85 सदस्यों की उच्च स्तरीय कमेटी में गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, कई राज्यों के मुख्यमंत्री, केंद्रीय मंत्री, पक्ष-विपक्ष के वरिष्ठ नेताओं के साथ साथ नेताजी के परिवार के सदस्य भी शामिल हैं। इनके अलावा लेखक, इतिहासकार, खेल और भी कई क्षेत्रो के प्रमुख व्यक्ति सहित आजाद हिंद फौज से जुड़े कई लोगों को शामिल किया गया है। 

पढें जागरूकता ही मृदा संरक्षण का महत्‍वपूर्ण प्रयास

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती 23 जनवरी (Parakram Diwas) के अवसर पर कोलकाता के ऐतिहासिक विक्टोरिया मेमोरियल हॉल में नेताजी सुभाष चंद्र बोस से जुड़े आयोजन की शुरुआत करेंगे, ये आयोजन वर्ष भर चलेंगे।

क्यों मनाया जाता है सेना दिवस, जाने क्या है इसका महत्व

देश प्रेम दिवस

वहीं नेताजी सुभाष चंद्र बोस के परपोते चंद्र कुमार बोस ने अपने बयान में कहा कि भारत नेताजी सुभाष चंद्र बोस के कारण आज़ाद हुआ। काफी सालों से भारत की जनता नेताजी का जन्मदिन “देश प्रेम दिवस” के रूप में मना रही है। इस घोषणा से हम खुश हैं, लेकिन अगर भारत सरकार 23 जनवरी की “देश प्रेम दिवस” के रूप में घोषणा करती तो ज़्यादा उपयुक्त होता।

जाने :भारत निर्वाचन आयोग के कार्य और महत्व

Leave a Comment

Open chat
1
How can we help ?
Hello 👋

Can we help you ?