National Sports Day 2021(राष्ट्रीय खेल दिवस) : राष्ट्रीय खेल दिवस क्यों और कैसे मनाया जाता है? Why and how National Sports Day is celebrated?

National Sports Day -29 August
National Sports Day -29 August

National Sports Day 2021 :Why and how National Sports Day is celebrated?

National Sports Day 2021 : भारत में प्रतिवर्ष 29 अगस्‍त को राष्‍ट्रीय खेल दिवस (National Sports Day)मनाया जाता है, राष्‍ट्रीय खेल दिवस मनाने की शुरूआत वर्ष 2012 में हुई। राष्‍ट्रीय खेल दिवस हॉकी के जादूगर मेजर ध्‍यानचंद के जन्‍म दिवस के अवसर पर मनाया जाता है। दरअसल मेजर ध्‍यानचंद ने हॉकी खेल में बेहतरीन प्रदर्शन कर भारत देश का नाम पूरी दूनिया में रोशन किया है,  मेजर ध्‍यानचंद के उत्‍तम प्रदर्शन एवं अभूतपूर्व योगदान के कारण उनके जन्‍मदिवस को राष्‍ट्रीय खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है। राष्ट्रीय खेल दिवस के अवसर पर सभी स्‍कूल, कॉलेज, अन्य शैक्षणिक संस्‍थानों के साथ-साथ खेल अकादमियों में  विशेष रूप से  मनाया जाता है,  ताकि खेलों का प्रत्‍येक व्‍यक्ति के जीवन में क्‍या महत्‍व है और जीवन में खेल क्‍यों आवश्‍यक यह दर्शाया जा सके।

National Sports Day, राष्‍ट्रीय खेल दिवस की शुरूआत  :

National Sports Day 2021: वर्ष 2012 में हॉकी के जादूगर मेजर ध्‍यानचंद के जन्‍मदिवस 29 अगस्‍त से राष्‍ट्रीय खेल दिवस (National Sports Day) मनाये जाने की शुरूआत हुई। तभी से प्रतिवर्ष मेजर ध्‍यानचंद के जन्‍मदिवस 29 अगस्‍त को राष्‍ट्रीय खेल दिवस मनाया जाता है।

यहां पढें : श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2021, महत्व, पूजा विधि एवं कथा

Who is Major Dhyan Chand (कौन हैं मेजर ध्‍यानचंद ) ?

कोई ऐसा शक्‍स जिनके जन्‍मदिवस पर कोई राष्‍ट्रीय दिवस मनाया जाता हो, वो कोई आम व्‍यक्ति तो नहीं हो सकता। जी हॉ मेजर ध्‍यानचंद ( Major Dhyan Chand ) कोई साधारण व्‍यक्ति नहीं थे, उन्‍हें उनके हॉकी खेल में उत्‍तम प्रदर्शन के लिए उन्‍हें हॉकी का जादूगर भी कहा जाता है और उन्‍हीं के जम्‍नदिवस 29 अगस्‍त को प्रतिवर्ष राष्‍ट्रीय खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है। मेजर ध्‍यान चंद का जन्‍म एलाहाबाद शहर में 29 अगस्‍त 1905 में हुआ था। मेजर साब के अन्‍तर्राष्‍ट्रीय खेल की शुरूआत सन 1926 में हुई। मेजर ध्‍यान चंद ने अपनी कप्‍तानी में देश को लगातार तीन ओलम्पिक गोल्‍ड मेडल दिलाये, पहला सन 1928 में एम्सटर्डम ओलम्पिक , दूसरा 1932 में लास एंजिल्स ओलम्पिक और तीसरा सन 1936 में बर्लिन ओलम्पिक । उनमें हॉकी खेल की अपार क्षमताऐं थीं, जब वे अपनी हॉकी स्टिक के साथ मैदान में उतरते थे जैसे कोई जादू कर रहे हों, देखते ही देखते मेच में जीत हासिल कर लेते थे। मेजर ध्‍यानचंद आजादी के बाद सन 1948 तक हॉकी खेल में अपना योगदान देते रहे। 42 वर्ष की आयु में मेजर साब ने हॉकी से सन्‍यास ले लिया। मेजर साब खेल मे निपुण होने के साथ ही बहुत शानदार व्‍यक्तित्‍व के व्‍यक्ति रहें हैं। भारत सरकार द्वारा मेजर साब को भारत के सवोच्‍च नागरिक पुरूस्‍कारों में से एक पद्मभूषण पुरस्कार से सम्‍मानित किया गया है और इसी के साथी मेजर ध्‍यानचंद पहले और आखिरी हॉकी प्‍लयेर रहे, जिन्‍हे यह पुरूस्‍कार प्राप्‍त हुआ। भारतीय डाक विभाग ने भी उनके सम्‍मान में सन 1979 में एक डाक टिकिट जारी किया था। दिल्‍ली स्थित स्‍टेडियम का नाम परिवर्तन कर इनके नाम पर रखकर मेजर साहब को श्रद्धांजलि दी गयी थी। वर्तमान में भी भारत सरकार द्वारा भारत में खेलों के सर्वाच्‍च पुरूस्‍कार राजीव गांधी खेल रत्‍न पुरूस्‍कार का नाम परिवर्तित कर मेजर ध्‍यानचंद खेल रत्‍न पुरूस्‍कार किया गया है।

यहां जाने : भारतीय स्‍टेट बैंक खाते में इंटरनेट बैंकिंग कैसे चालू करें ।

Why celebrated, National Sports Day (क्‍यों मनाया जाता है, खेल दिवस ) ?

राष्‍ट्रीय खेल दिवस (Rashtriya Khel Diwas)मनाने का मुख्‍य उद्देश्य है कि देश के युवाओं को खेल के प्रति प्रोत्‍साहित किया जाये जिससे कि वे खेलों को अपने कैरियर के रूप में देखें ही तथा देश का नाम भी रोशन करें। इस दिवस के अवसर पर खेलों में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को राष्‍ट्रपति भवन में राष्‍ट्रपति द्वारा सम्‍मानित किया जाता है। साथ ही खिलाड़ियों  को प्रशिक्षित करने वाले कोचों को भी सम्‍मानित किया जाता है। प्रदान किये जाने वाले सम्‍मान राजीव गांधी खेल रत्‍न पुरूस्‍कार अब मेजर ध्‍यानचंद खेल रत्‍न पुरूस्‍कार, ध्‍यानचंद पुरूस्‍कार, द्रोणाचार्य पुरूस्‍कार, तेनजिंग नोर्गे राष्‍ट्रीय साहसिक पुरूस्‍कार, अर्जुन पुरूस्‍कार, मौलाना अबुल कलाम आजाद ट्रॉफी, राष्‍ट्रीय खेल प्रोत्‍साहन पुरूस्‍कार, मुख्‍य हैं।

India’s Highest Sports Award भारत का सर्वोच्‍च खेल पुरूस्‍कार

भारत का सर्वोच्च खेल पुरूस्‍कार मेजर ध्‍यानचंद खेल रत्‍न पुरूस्‍कार (major dhyan chand khel ratna award) है, पूर्व में यह राजीव गांधी खेल रत्‍न पुरूस्‍कार था। हाल ही में दिनॉक 6 अगस्‍त 2021 को ही टोक्‍यो ओलंपिक में भारत के हॉकी के दमदार प्रदर्शन को देखते हुए प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी जी द्वारा हॉकी के जादूगर मेजर ध्‍यानचंद के नाम पर भारत के सर्वोच्‍च खेल पुरूस्‍कार का नाम रखा गया है।

Categories Uncategorized

Leave a Comment

Open chat
1
How can we help ?
Hello 👋

Can we help you ?