Digital Currency in India, डिजीजट करेंसी इन इंडिया : RBI आर बी आई गवर्नर के कहे अनुसार देश में लॉन्च होगी देश की अपनी Digital Currency

Digital Currency
Digital Currency

Digital Currency in India, डिजीजट करेंसी इन इंडिया

आज कल Digital Currency बहुत चलन में हैं और क्रिप्टोकरेंसी (cryptocurrency) की कीमतें भी अत्‍यधिक बढती जा रही हैं। RBI आरबी आई गवर्नर के कहेअनुसार भारत में भी अपनी डिजिटल करेंसी  digital currency जारी करने का प्लान बनाना शुरू कर दिया गया है. भारत के सेन्‍ट्रल बैंक, भारतीय रिजर्व बैंक ने डिजिटल मुद्रा पर काम करना भी शुरू कर दिया है।

RBI के गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) ने कहा है कि भारतीय रिजर्व बैंक खुद की Digital Currency डिजिटल करंसी पर काम कर रहा है, जो पूरी तरह से क्रिप्टोकरेंसी से अलग होगी। 

Blockchain technology ब्लॉकचेन तकनीक

RBI के गवर्नर ने कहा कि तकनीकी क्रांति के दौर में भारत भी पीछे नहीं रहना चाहता। ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी (blockchain technology) के फायदों को अपनाने की जरूरत है, साथ ही गवर्नर ने यह भी कहा कि क्रिप्टोकरेंसी को लेकर कुछ अलग तरह की चिंताएं भी हैं।

बॉम्बे चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के 185वें स्थापना दिवस में भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) ने कहा कि भारत सफलता की राह पर आगे बढ़ने की दहलीज पर खड़ा है। 

यह भी पढें भारत का अपना मेसेजिंग एप Sandes App

Cryptocurrency क्रिप्टोकरेंसी को लेकर चिंताएं

एक निजी टीवी चैनल के साथ बातचीत में भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर ने कहा था कि रिजर्व बैंक क्रिप्टोकरेंसी के उपयोग से अर्थव्यवस्था की वित्तीय स्थिरता पर असर को लेकर चिंतित है और इस संबंध में बैंक ने सरकार को अवगत करा दिया है।

साथ ही उनके द्वारा कहा गया कि ब्लॉकचेन तकनीक पूरी तरह से अलग है और इस तकनीक का अभी दोहन होना है। लेकिन क्रिप्टोकरेंसी को लेकर कुछ बड़ी चिंताएं हैं।

Government Objection for Cryptocurrency Use

Digital Currency के प्रयोग को लेकर बैंक चिंतित थे कि इसके इस्‍तेमाल से धोखाधडी को बढावा मिलेगा। भारतीय रिजर्व बैंक ने भी 2018 में बैंको‍ सहित अन्‍य वित्‍तीय संस्‍थाओं को Cryptocurrency के लेनदेन का समर्थन नहीं किया था। साथ ही सरकार भी इसके विरोध में ऐसा विधेयक लाने की योजना में काम कर रही है, जिससे कि Cryptocurrency द्वारा किये जा रहे लेनदेन को रोका जा सके।

Supreme Court on Cryptocurrency

Cryptocurrency के लेनदेन पर बैंको की चिंता और सरकार के ऐतराज के बावजूद भारत की सर्वोच्‍च न्‍यायालय द्वारा क्रिप्टोकरेंसी पर भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा लगाये गये प्रतिबंध को 4 मार्च, 2020 को हटा दिया था। न्‍यायालय द्वारा भारतीय रिजर्व बैंक के आदेश के खिलाफ दाखिल याचिका पर सुनवाई करते हुए क्रिप्टोकरेंसी Cryptocurrency को प्रतिबंधित करने के निर्णय को बेहद सख्त बताया।

Digital Currency  के प्रयोग का असर

यदि Digital Currency डिजिटल करंसी के चलन में आने के बाद ट्रांजैक्शन और उसके तरीके पूरी तरह से बदल जाएंगे। जहां अब तक नोटों और सिक्कों का उपयोग हो रहा है वहीं उनकी जगह डिजिटल करंसी का इस्तेमाल होगा जो भारत में एक नया चलन होगा। लेन-देन के तरीकों में तो बदलाव होने के साथ-साथ ब्लैक मनी पर भी रोक लगेगी।

Leave a Comment

Open chat
1
How can we help ?
Hello 👋

Can we help you ?